International Journal of Contemporary Research In Multidisciplinary, 2023;2(5):58-61

भूमंडलीकरण के दौर में भारतीय संस्कृति की अवस्थिति

Author: सर्वेश यादव
Paper Type: review_paper
Article Information
  • Paper Received on: 2023-08-25
  • Paper Accepted on: 2023-10-21
  • Paper Revised on:
  • Paper Published on: 2023-10-30
Abstract:

इस समीक्षा लेख में वैश्विकीकरण की अवबोधना को गहराई से समझाने का प्रयास किया गया है जिसमें इसके विविध आयामों और प्रभावों को प्रकट किया गया है। इसका महत्वपूर्ण बिंदु है कि वैश्विकीकरण एक प्रक्रिया है जिसमें सभी देशों के बाजार, वस्तुएं और जानकारी को एकीकृत करने और एक सांगठन में लाने का प्रयास होता है जिसके परिणामस्वरूप एक देश की वस्तुएं, व्यक्तियों और जानकारी को किसी दूसरे देश में किसी प्रकार की बाध्यता के बिना स्वीकार किया जाता है ।

Keywords:

वैश्विकीकरण, आर्थिक सहयोग, अंतर्राष्ट्रीय व्यापार, भूमंडलीकरण के प्रभाव, विश्वव्यापी सघटन

Aim/Objectives

Methods

References

2-5-14

How to Cite this Article:

सर्वेश यादव. भूमंडलीकरण के दौर में भारतीय संस्कृति की अवस्थिति. International Journal of Contemporary Research in Multidisciplinary. 2023: 2(5):58-61


Download PDF